Search
  • chinmay gaur

Basic Of Indian Music

भारतीय संगीत में स्वर 

सा - षडज रे - ऋषभ ग - गांधार  म - मध्यम  प - पंचम ध - धैवत नी - निषाद  क्रमश - सा रे ग म प ध नी कहा जाता है । 22 श्रुतियो से मुख्य,12 श्रुतियो को स्वर कहते है । स्वर को नाम इस प्रकार है । और पिछले ब्लॉग के माध्यम से हमने इन सभी स्वरों की श्रुति पर स्थापना सिखी है। बतायी गयी वही आधुनिक श्रुति स्वर व्यवस्था शुद्ध सप्तक कहलाता है । स्वरों के प्रकार - चल स्वर एवं चल स्वर  अचल स्वर - सा और प (जिनका श्रुति स्थान निश्चित है ।) चल - रे ग ध नी (जिनका श्रुति स्थान निश्चित होने कि साथ चल भी है ।) चल स्वर कि 3 रूप है एक रूप है - शुद्ध ,कोमल और तीव्र कोमल - ऋषभ, गांधार, धैवत, निषाद  तीव्र - मध्यम  कुलमिलकर हमारे पास 7 शुद्ध ,4 कोमल एवं 1 तीव्र स्वर है। अर्थात 12 स्वर है जो क्रमश निम्नलिखित रूप में है                 सा   रे    रे      ग   म  मे  प   ध   ध   नी   नी                 1   2   3   4   5   6   7   8   9   10  11  12 

91 views0 comments

Recent Posts

See All